Sad Shayari

Duniya ko hi chain kaha hai

ज़िंदगी में ˆपहले ही इतना गम समेटˆ लिया है यारों
अब औरˆ आसूँ की जगह बाकी कहाँ है
हमˆ तो अपनी साँसेˆ संभाल के बैठे थे
पर कमबख्त इस दुनिया कोˆ ही चैन कहा है

shayariOn sadshayari 12 jinke dil pe chot lagti ha

Zindgiˆ mein pehle hi itnaˆ gum samet liya he yaaron
Abˆ aur aasoon kiˆ jagah baaki ˆkahan hai
Hum toˆ apni saanse sambhal ke baithe the
Par kambakthˆ es duniya ko hi chainˆ kaha hai

जिनकेˆ दिल पे चोट लगतीˆ है ना दोस्तों
वो आंखोंˆ से नहींˆ दिल से रोते है

Jinke dil peˆ chott lagti ha na dosto!!
Wo aankhonˆ se nahi dil se roteˆ ha

Back to top button