Barish Shayari

Is mausam me har

बारिश के_मौसम में क्या आपका दिल मचलता है,
क्या पानी में_भीगने का भी आपका दिल करता है,
इसमें आपकी गलती_नहीं है,
इस मौसम में हर_मेंढक ऐसे ही फुदकता है।

shayariOn barishshayari 06 Barish Ke Mausam Me Kya

Barish Ke_Mausam Me Kya Apka Dil Machalta Hai,
Kya Paani Me_Bheegne Ka Bhi Dil Karta Hai,
Isme Apki Galti_Nahi Hai,
Is Mausam Me_Har Mendhak Aise Hi Fudakta Hai.

°¨चाँदनी जैसे °¨बिखर गई है सारी,
रब °¨से है ये दुआ °¨हमारी,
जितनी °¨प्यारी है तारों °¨की यारी,
आपकी °¨नींद भी हो उतनी °¨ही प्यारी।
°¨शुभ रात्रि।

Chandni °¨Jaise Bikhar Gayi Hai Saari,
Rab Se Hai Ye °¨Dua Hamari,
Jitni Pyari Hai °¨Taron Ki Yaari,
Aapki Neend °¨Bhi Ho Utni Hi Pyari.
Shubhratri.

सुहानि°¨ रात को करो प्यार,
चाँद-तारो°¨ का करो इजहार,
और देखो °¨आज के ख़्वाब सदा बाहर,
Good Night

Suhani Raai ko karo pyar,
Chand-taaron ka karo intezaar,
Aur dekho aj ke khwaab sda bahar,
GOoOD night

Back to top button