Alone Shayari

Alone Shayari, Jaga raat bhar tanha

काश_आँसुओं के साथ यादें भी बह सकती
तोह इक दिन_तसल्ली से बैठ कर रो लेते

Hindi Alone Shayari in Two Lines

Hindi Alone Shayari in Two Lines

Kaash_Aansuon ke Saath Yaadein Bhi Beh Sakti
Toh ik Din_Tasalli Se Baith kar Roo Lete

जमाना सो गया और- मैं जगा रातभर तन्हा,
तुम्हारे गम से दिल रोता रहा रातभर तन्हा।

Zamana So Gaya Aur- Main Jaga Raat Bhar Tanha,
Tumhare Gam Se Dil Rota Raha Raat Bhar Tanha.

तू नहीं तो_ये नजारा भी बुरा लगता है,
चाँद के पास सितारा भी_बुरा लगता है,
ला के जिस_रोज छोड़ा है तूने भंवर में मुझे,
मुझे दरिया का किनारा भी_बुरा लगता है।

Tu Nahi To_Ye Nazara Bhi Bura Lagta Hai,
Chand Ke Paas Sitara Bhi_Bura Lagta Hai,
La Ke Jis Roj_Chhoda Hai Tu Ne Bhanwar Mein,
Mujhe Dariya Ka Kinara Bhi_Bura Lagta Hai.

Back to top button