Alone Shayari

Alone Shayari, Mujhe tanha rahne do

चल कोई, बात नही,
तू जो, मेरे साथ नहीं,
मैं रो पडू, तेरे जाने के बाद,
इतनी भी, तेरी औकात नहीं!!

Shayari about Loneliness of Lover

Shayari about Loneliness of Lover

Chal koi, baat nahi,
Tu jo, mere sath nahi,
Mein roo padu, tere jane ke baad
Itni bhi, teri aukat nahi!!

मुझे_महफ़िलो का शौक़ नही मुझे तनहा रहने दो,
मुझे खुशिया रास नहीं आती मुझे उदास ही रहने दो,
उनकी नज़रों में वफ़ा करने वाले हज़ार है,
लेकिन मुझे उनकी नज़रों में बेवफा ही रहने दो..!
_अभिषेक

Mujhe_mehfilo ka shauk nahi mujhe tanha rahne do,
Mujhe khushiya raas nahi ati mujhe udas hi rahne do,
Unki nazro me wafa karne wale hazar ha,
Lekin mujhe unki nazro me bewafa hi rahne do..!
_Abhishek

मत पूछो_कैसे गुजरता है हर पल तुम्हारे बिना,
कभी मिलने की हसरत-कभी देखने की तमन्ना। 

Mat Poochho_Kaise Gujarta Hai Har Pal Tumhare Bina,
Kabhi Milne Ki Hasrat-Kabhi Dekhne Ki Tamanna.

Back to top button