Bewafa Shayari

Bewafa Shayari, Paidayshi beemari ha

न कोई- मज़बूरी है न तो लाचारी है,
बेवफाई उसकी पैदायशी बीमारी है।

2 line bewafa shayari on love for facebook

2 line bewafa shayari on love for facebook

Na Koi- Majboori Hai Na To Lachari Hai,
Bewafai Uski Paidayshi Beemari Hai.

छोड़ गए हमको, वो अकेले ही राहों में,
चल दिए रहने वो औरों की पनाहों में,
शायद मेरी चाहत उन्हें रास नहीं आई,
तभी तो सिमट गए वो और की बाहों में।

Chhod gye hamko, vo akele hi raho me,
Chal diye rahne vo auro ki panhao me,
Sayad meri chahat unhe raas nahi ayi
Tabhi to simat gye vo gaur ki baho me.

इंसान के कंधों पर -इंसान जा रहा था,
कफ़न में लिपटा -अरमान जा रहा था,
जिसे भी मिली बेवफ़ाई मोहब्बत में,
वफ़ा की तलाश में श्मशान जा रहा था।

Insaan Ke Kandho Par -Insaan Ja Raha Tha,
Kafan Mein Lipata Hua -Armaan Ja Raha Tha,
Jise Bhi Mili Bewafai Mohabbat Mein,
Wafa Ki Talash Mein Shamshaan Ja Raha Tha.

Back to top button