Dard Shayari

Dard Shayari, Wo kya samjhe dard aankhon ki

pyar mein rone wali dard shayari
तरस आता है मुझे- अपनी मासूम सी पलकों पर,
जब भीग कर कहती है कि अब रोया नहीं जाता।

pyar mein rone wali dard shayari

Taras Aata Hai Mujhe- Apni Masoom See Palkon Par,
Jab Bheeg Kar Kahti Hain Ke Ab Roya Nahi Jata.

-कैसे बयान करें आलम दिल की बेबसी का,
वो क्या समझे दर्द आंखों की इस नमी का,
उनके चाहने -वाले इतने हो गए हैं अब कि,
उन्हे अब एहसास ही नहीं हमारी कमी का।

-Kaise bayan kare alam dil ki bewasi ka,
Wo kya samjhe dard aankhon ki iss naami ka,
Unke chahat-wale itne ho gye ab ki,
Unme ab ehsaas hi nahi hamari kami ka.

तन्हाइयों_का एक अलग ही मजा है
इसमें डर नहीं होता किसी को_छोड़ जाने का

Tanhaion_ka ek alag hee maja ha
Isme daar nahi hoti kisi ko_chhod jane ka.

Back to top button