Sad Shayari

Sad Shayari, Ye dard zaalim raat nahi samajhti

ये दुनिया पत्थर की जज़्बात नहीं समझती
दिल में जो छुपी है वो बात नहीं समझती
चाँद तनहा है तारो की बारात में,
पर ये दर्द ज़ालिम रात नहीं समझती.

zindagi sad shayari in hindi for facebook

zindagi sad shayari in hindi for facebook

Ye Duniya Patthar Ki Jazbaat Nahi Samajhti
Dil Mein Jo Chhupi Hai Wo Baat Nahi Samajhti
Chand Tanha Hai Taaro Ki Baraat Mein,
Par Ye Dard Zaalim Raat Nahi Samajhti.

उसे बेवफा कहेंगे तो अपनी ही नजर में गिर जायेंगे हम
वो प्यार भी अपना था और वो पसंद भी अपनी थी

Use bewafa kahenge to apni hi najar mein gir jayenge hum
Wo pyar bhi apna tha or wo pasand bhi apni thi

इस दुनिया में मोहब्बत कि तक़दीर बदलती हे,
शीशा तो वोही रहता हे पर तस्वीर बदलती हे.

Is duniya mein mohabbat ki taqdeer badalti he,
Sisa to wohi rahta he par tasveer badalti he.

मेरे बिना क्या अपने आप को सँवार लोगे तुम,
“मोहबत” हूँ कोई ज़ेवर नहीं जो उतार दोगे तुम।

Mere Bina Kya Apne Aap Ko Sanwaar Loge Tum,
“MOHABAAT” Hu Koyi Zewar Nahin Jo Utaar Doge Tum.

Back to top button